21 सितंबर 2011

हैप्पी बर्थ डे टू पाबला जी


इधर पिछले कुछ दिनों से ब्लॉग पर सक्रियता कुछ कम हो गई है । सोच ही रहा था कि लिखने की रेल फिरसे पटरी पर आ जाए कि अचानक फिर ज़रूरी कामों में उलझ गया और लिखना कुछ दिनों के लिए टल गया ।
सितम्बर माह प्रारम्भ होते ही ख्याल आता है कि इस माह में कुछ “ महान “ लोगों का जन्मदिन है । अरे अरे... चौंकिये मत सचमुच ऐसा है । अब सूची प्रस्तुत करूंगा तो बहुत देर हो जाएगी । वैसे सच बात तो यह है कि मुझे महान लोगों का जन्म दिन याद भी नहीं रहता । इतना भर याद रहता है कि इस माह अपने मित्र श्री बी. एस. पाबला जी का जन्म दिन है ।
सितम्बर प्रारम्भ हुआ और धुन सवार हो गई कि हमेशा की तरह पाबला जी के जन्म दिन पर एक पोस्ट लिखनी है । लेकिन वाह री ज़िन्दगी ... परिवार में एक ऐसी घटना घटित हो गई जिसकी वज़ह से बहुत  बुरी तरह व्यस्त हो जाना पड़ा ।
आज सुबह पाबला जी को फोन पर जन्म दिन की बधाई दी और साथ ही क्षमायाचना की ...आज आपके जन्म दिन पर कुछ नहीं लिख पाउंगा ।पाबला जी ने कहा ..” कोई बात नहीं शरद जी , पारिवारिक और सामाजिक ज़िम्मेदारियों का निर्वाह पहले ज़रूरी है । “  
सारे कामों से फुर्सत पाकर अभी लौटा और घड़ी देखी तो अहसास हुआ कि अभी 21 सितम्बर समाप्त होने में कुछ समय बाकी है । सो ब्लॉगर धर्म का निर्वाह किया जा सकता है । अब इसे ब्लॉगर धर्म कह लें या मित्र धर्म ,की बोर्ड पर उंगलियाँ चलने लगीं ।
बहुत कठिन बीता पिछला साल पाबला जी के लिये । मुसीबतें आईं और चली गईं । ज़िन्दगी ने फिर अपनी रफ्तार पकड़ ली । पाबला जी थे जो निभा ले गए ।
इस जन्मदिन पर पूरे ब्लॉग जगत की ओर से उनके लिये शुभकामनायें और पाबला जी के लिये उनकी तबियत के अनुसार किसी शायर का यह एक शेर ..
                    “  नशेमन पर नशेमन इस कदर तामीर करता जा
                       कि बिजलियाँ गिर गिर के खुद बेज़ार हो जाएँ ॥ “

                      पाबला जी को जन्म दिन पर अनंत शुभकामनायें  

5 टिप्‍पणियां:

  1. अब भी वक्त है..एक बधाई और ...मेरी ओर से ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. पाबला जी को जन्म दिवस की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाबला जी को मुबारकवाद और आपके मित्र प्रेम को भी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति..
    आपको नवरात्रि और जन्मदिन की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं

आइये पड़ोस को अपना विश्व बनायें