8 मार्च 2010

नो कमेंट्स प्लीज़ .....

पिछले दिनों मुम्बई गया था । मुम्बई सेंट्रल रेल्वे स्टेशन से बाहर निकलते ही फुटपाथ पर यह दृश्य  देखा । मैं भीख माँगती हुई एक बच्ची का चित्र लेना चाहता था लेकिन यह संयोग ही था कि इस दृश्य में अन्य दो  स्त्रियाँ अनायास ही आ गईं । इसे कैमरे में उतारते वक़्त मेरे हाथ पहली बार काँपे ...इतनी असमानता ? इतना  वर्गभेद ? कैसी विवशता है यह ? इस देश में  जहाँ ग़रीबी इतना बड़ा  अभिशाप  है क्यों वहाँ अपने स्टेटस को लेकर ,अपने धर्म को लेकर आपस में वैमनस्य पालते है हम लोग ? बार बार पूछता रहा मै अपने आप से यह सवाल ..क्या  इस देश में जन्म लेकर कोई अपराध किया है मैने ?  इस चित्र को प्रकाशित करते हुए , इस " आधी दुनिया " से सचमुच  क्षमा चाहता हूँ मैं ........................-  क्षमाप्रार्थी - शरद कोकास



                                                                                        आईये पड़ोस को अपना विश्व बनायें

21 टिप्‍पणियां:

  1. काश! इस सवाल का कोई जबाब होता!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओह , बहुत सही सवाल किया है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut dukhad hai ye sab.. dil itni baar dukhta hai aisi baaten roj sunkar ki hisab nahin ho pata..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऎसे कुछ सवाल अनुतरित रहने के लिए ही जन्म लेते है.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. Sharad ji........aap ne jo likha hai wo Bombay tak hi simit nahi...balki pure Bharat main yeh rog phail chuka hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. वो सुबह कभी तो आएगी...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  7. शरद भाई
    यह फोटो नहीं पूरा उपन्यास है। या मेरे परवरदिगार तू कहां छिपा बैठा है।
    राजकुमार सोनी

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद दुखद है जमीन आसमान का फर्क है .....

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने जन्म लेकर कोई अपराध नहीं किया है आप का जन्म इसलिए ही हुआ है कि आप असमानता ,वर्गभेद ,मिटाने में कुछ मदद कर सकें |यह सही है कि "नहीं दरिद्र सम पातक पुंजा " यह अभिशाप न जाने कब से चला आरहा है और कह नहीं सकते कब तक चलेगा | आप जैसा सम्बेदनशील व्यक्ति इस द्रश्य से कितना आहत हुआ होगा ,मै इसकी कल्पना कर सकता हूँ मगर ,इसका कोइ उपचार भी नहीं नजर आता

    उत्तर देंहटाएं
  11. शायद ये खाई कभी नही भरेगी। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. शरद भाई यह लोग मेहनत कर के , मजदुरी कर के भी तो पेट भर सकते है? एक जरुरत मंद, एक गरीब की मदद करनी अच्छी बात है, लेकिन जो हाथ पांव सही सलामत होने के वाबजुद लोग भीख मांगे तो कया यह उचित है??

    उत्तर देंहटाएं
  13. Ham apni orse kuchh kar sakte hain wo karen...aur kya kahun?

    उत्तर देंहटाएं
  14. Is chitra ne man me ek tis bhar di ....waakai itani asamanta sochane ka vishay hai !!
    Kaash sabhi log aapki tarah soch pate...

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुनता आया हूं एक चित्र हज़ार शब्दों के बराबर होता है,आज देख भी लिया।कहने को बहुत कुछ है मगर शब्द नही मिल रहे हैं,स्तब्ध हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. लोग असमानता की बातें करते हैं, लगातार बहस करते हैं, लेकिन वे असर नहीं छोडतीं....आपके एक चित्र ने हिला दिया....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ कमेंट कर पाने की हिम्‍मत ही नहीं है !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बच्चियों को लेकर समाज में अभी भी वर्गभेद है.
    ----------------------
    "पाखी की दुनिया" में इस बार पोर्टब्लेयर के खूबसूरत म्यूजियम की सैर

    उत्तर देंहटाएं

आइये पड़ोस को अपना विश्व बनायें